?> ?> लखनऊ नगर निगम के बारे मे – उ0प्र0 नगर निगम कर्मचारी संघ, लखनऊ

पुण्य सलिला गोमती नदी के पावन तटों पर बसा उत्तर प्रदेश की राजधानी ‘‘लखनऊ‘‘ 26.30.27.10 उत्तर एवं 80-30 से 81-13 पूर्वी देशान्तर रेखाओं के मध्य अवस्थित है। लखनऊ की वर्ष 2011 के अनुसार आबादी 28.2 लाख क्षेत्रफल 310-104 वर्ग किलोमीटर है।

लखनऊ के राजाओं, नवाबों के युग का अन्त होने के बाद नगर का प्रशासन चलाने के लिए अंग्रेज शासकों द्वारा 1860 में लोकल कमेटी का गठन किया गया जिसमें प्रथम चेयरमैन लखनऊ के डिप्टी कलेक्टर श्री जी0 कैम्पवेल स्क्वायर बनाये गये। उक्त लोकल कमेटी की पहली बैठक छतर मंजिल में हुई लखनऊ के तत्कालीन कमिश्नर के आदेश संख्या-2870 दिनांक 19-12-1861 द्वारा इस निकाय को म्युनिसिपल कमेटी का स्तर प्राप्त हुआ। इसके चेयरमैन श्री जी.कैम्पवेल रक्वायर ही थे। वर्ष 1884 तक म्युनिसिपल कमेटी ही रही तथा इस वर्ष निकाय को म्युनिसिपल बोर्ड बना दिया गया। इसके प्रथम चेयरमैन तत्कालीन डिप्टी कमिश्नर श्री एच0डब्ल्यू, हैस्टिंग हुए। इस निकाय के चेयरमैन का पद डिप्टी कमिश्नर द्वारा वर्ष 1916 तक ग्रहण किया जाता रहां 1916 में तत्कालीन अवध प्रान्त के म्युनिसिपल एक्ट में संशोधन होने पर तत्कालीन म्युनिसिपल बोर्ड के प्रस्ताव संख्या-671 दिनांक 08.12.1916 को प्रथम भारतीय जन निर्वाचित चेयरमैन श्री सैययद नबी उल्ला निर्वाचित हुए। उसके बादः 1,पंडित जगत नारायन, 2. बाबू विशम्भर नाथ श्रीवास्तव, 3. चैधरी खलीकुज्जमा, 4. श्री त्रिलोक नाथ भार्गव, 5. श्री नवल किशोर हलवासिया, 6. श्री पृथ्वी नाथ भार्गव चेयरमैन हुए।

शासन द्वारा 1948 में इस निकाय के जन निर्वाचित स्वरूप के अवक्रमित कर इसका प्रशासन शासन द्वारा नियुक्त प्रशासक के अधीन कर दिया गया तथा प्रथम प्रशासक श्री भैरव दत्त सनवाल, आई0सी0एस0 को नियुक्त किया गयां इस प्रकार वर्ष 1960 तक यहां का प्रशासन के ही अधीन रहा। उत्तर प्रदेश के म्युनिसिपल एक्ट 1916 के स्थान पर वर्ष ‘‘1959’’ एक नया अधिनियम ‘‘उत्तर प्रदेश नगर महापालिका अधिनियम 1959’’ पारित कर नये रूप् में सामान्य निर्वाचन कराकर नगर महापालिका का विधिवत गठन किया गया और दिनांक 01 फरवरी, 1960 को प्रथम नगर प्रमुख श्री राज कुमार, एडवोकेट तथा अन्य सदस्यों ने अपने पद एवं गोपनीयता की शपथ ग्रहण की। निर्वाचित महापालिका के नगर प्रमुख: 1. श्री राज कुमार एडवोकेट, 2. श्री गिरिराज धरण रस्तोगी, 3. डा0 पी0डी0 कपूर, 4. कैप्टन वेद रत्न मोहन, 5. श्री ओम नरायन बंसल तथा उप नगर प्रमुख 1. कैप्टन वेद रत्न मोहन, 2. श्री राम प्रकाश गुप्त हुए।

दिनांक 01 फरवरी 1966 से दिनांक 03 जुलाई 1968 तक पुनः प्रशासक काल रहा। द्वितीय जन निर्वाचित महापालिका का गठन दिनांक 4 जुलाई 1968 को किया गया और उसके नगर प्रमुख: 1. डा0 मदन मोहन सिंह सिद्धू, 2. श्री बालक राम वैश्य, 3. श्री बेनी प्रसाद हलवासिया, 4. डा0 दाऊ जी गुप्त तथा उप नगर प्रमुख: 1. श्री सिद्धनाथ मिश्र, 2. श्री कृष्ण वर्मा हुए।

दिनांक 01 जुलाई, 1973 से दिनांक 24 अगस्त, 1989 तक पुनः प्रशासन काल रहा। दिनांक 26 अगस्त 1989 को पुनः तृतीय जन निर्वाचित नगर महापालिका का गठन किया गया। इस निर्वाचन में सबसे महत्वपूर्ण बात यह हुई कि नगर महापालिका अधिनियम 1959 में नगर प्रमुख के पद के कार्यकाल को संशोधित करके नगर महापालिका के पूर्व कार्यकाल तक कर दिया गया और इसके बाद नगर प्रमुख और उनका कार्यकाल इस प्रकार रहा-1. डा0 दाऊ जी गुप्त दिनांक 26.8.1989 से 20.05.1992 तक, 2. श्री सतीश चन्द्र मिश्र, उप नगर प्रमुख, (कार्यवाहक नगर प्रमुख) दिनांक 21.05.1992 से 12.05.1993 तक, 3. श्री अखिलेश दास दिनांक 13.05.1993 से 30.01.1995 तक।

भारतीय संविधान में 74वें संशोधन के पश्चात् 31.05.1994 से इस निकाय को लखनऊ नगर निगम कर दिया गया। इस समय श्री अखिलेश दास नगर प्रमुख का पदभार संभाल रहे थे।

उत्तर प्रदेश नगर निगम अधिनियम, 1959 में यह प्राविधान किया गया कि नगर प्रमुख का निर्वाचन सदस्यों के द्वारा न कराकर सीधे नगर के मतदाताओं द्वारा गठन किया जाय। निर्वाचन के उपरान्त नगर निगम का दिनांक 30.01.1995 को पुनः गठन हुआ। इस बार नगर प्रमुख: 1. डा0 सतीश चन्द्र राय तथा उप नगर प्रमुखः 1. श्रीमती उर्मिला मिश्र, 2. श्रीमती उर्मिला मित्तल हुए।

नवम्बर 2000 के नगर निकाय निर्वाचन में पुनः निर्वाचन होने के उपरान्त डा0 सतीष चन्द्र राय ने 30 नवब्बर 2000 को नगर प्रमुख का पदभार संभाला।

दिनांक 21 नवम्बर, 2002 की अधिसूचना द्वारा नगर प्रमुख, उप नगर प्रमुख, सभासद एवं मुख्य नगर अधिकारी का पदनाम क्रमशः महापौर, उप महापौर, पार्षद एवं नगर आयुक्त में परिवर्तित हुआ। लखनऊ नगर निगम में प्रथम बार पद्म श्री डा0 सतीश चन्द्र राय महापौर, श्री अभय सेठ, उप महापौर तथा कैप्टन एस0.के0 द्विवेदी नगर आयुक्त हुए तत्पश्चात डा0 दिनेश शर्मा, मा0 महापौर इस समय मा0 उपमुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार में हैं। श्री सुरेश चन्द्र अवस्थी कार्यवाहक मा0 महापौर रहे है। वर्तमान में श्रीमती संयुक्ता भाटिया मा0 महापौर एवं श्री मनोज कुमार प्रभारी नगर आयुक्त है।वर्तमान समय में नगर का क्षेत्रफल 310-104 वर्ग किलोमीटर है। सम्पूर्ण नगर क्षेत्र में 110 वार्ड है। प्रशासनिक सुगमता को दृष्टिगत रखते हुए इस आठ जोनों में विभक्त किया गया है।

इस शानदार शहर के निवासियों को नगरीय सुविधाओं को गुणवत्ता, तत्परता तथा प्रचुरता के साथ उपलब्ध कराने में लखनऊ नगर निगम सतत् प्रयत्नशीला है। लखनऊ नगर अपनी प्राचीन विरासत और बुलंदियों के परिप्रेक्ष्य में गौरवशाली अतीत को संजोये हुए आगे निरन्तर बढ़ता रहें, यही ध्येय हैं।